मजबूत अर्थिंग लगाने के लिए इन बातों का जरूर रखें ध्यान

हमारे घरों में इस्तेमाल किये जाने वाले किसी भी electric device को perfect रूप से काम करने के लिए 220v ac supply की जरूरत होती है। 220v ac के लिए हमें 2 connection wire की जरूरत पड़ती है। इनमें से एक तार का कनेक्शन electric pole पर transformer से निकाले गए बिजली के तार से किया जाता है जिसे Hot Wire (गर्मी का तार) भी कहा जाता है।

साथ ही, दूसरे तार का connection इलेक्ट्रिक पोल पर earthing वाले तार से किया जाता है जिसे Cold Wire (ठंडी का तार) भी कहा जाता है। लेकिन अभी भी बहुत क्षेत्र में बिजली कंपनी की तरफ से अर्थिंग का कनेक्शन नहीं दिया गया है जिस वजह से लोगों को ये connection खुद से ही जमीन से निकालना पड़ता है।
लेकिन बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जिन्हें जमीन से अर्थिंग का कनेक्शन निकालना बहुत ही costly और ज्यादा समय की खपत करने वाला प्रतीत होता है। इसी वजह से बहुत सारे लोग अर्थिंग करने के सही तरीके को आजमाने के बजाये गलत तरीके से अर्थिंग का connection निकाल लेते हैं। इस तरह का अर्थिंग ज्यादा समय तक टिक नहीं पाता है और बहुत जल्दी ही घर की वायरिंग में तरह-तरह की समस्या आने लगती है।

इतना ही नहीं, बहुत सारे बिजली उपभोक्ता ऐसे भी होते हैं जो अपना समय और पैसा बचाने के लिए बिल्कुल ही short term का सहारा लेते हैं और इस तरह से अर्थिंग का कनेक्शन कर देते हैं जो कि कभी भी उनके लिए dangerous साबित हो सकता है। दरअसल, बहुत सारे लोग अपने घर के पिलर में ही अर्थिंग का connection कर देते हैं जो कभी भी उनके लिए जानलेवा साबित हो सकता है। इसके बारे में details जानने के लिए आप हमारे निम्न पोस्ट को पढ़ सकते हैं।


ऊपर के पोस्ट को पढने के बाद आपको पता चल जायेगा कि earthing का सही से connection करना हमारी safety के लिए कितना जरूरी है। लेकिन बहुत सारे लोगों को सही से अर्थिंग करने की जानकारी भी नहीं होती है जिस वजह से वो न चाहते हुए भी गलत तरीके से अर्थिंग निकाल लेते हैं। तो चलिए, आज हम आपको सही से अर्थिंग का कनेक्शन निकालने के कुछ टिप्स देते हैं जिससे आपके घर की वायरिंग पहले की अपेक्षा ज्यादा विश्वसनीय हो जायेगी।

मजबूत अर्थिंग लगाने के लिए निम्न pionts को करें follow

1) High quality wire का करें इस्तेमाल

कुछ साल पहले तक मनुष्य की जरूरतें limited हुआ करती थी और लोग बहुत ही कम electric gadgets का इस्तेमाल किया करते थे। इसलिए उस समय के जरूरत के अनुसार लोग अपने घर में छोटी-मोटी वायरिंग ही करवाते थे और उस wiring में low quality के तार भी लगा दिया करते थे।

लेकिन आज के समय में हमारी जरूरतें काफी हद तक बढ़ गई हैं और हम पहले की तुलना में बहुत ज्यादा इलेक्ट्रिक उपकरणों का use करने लगे हैं। लेकिन लोग सबसे बड़ी गलती ये करते हैं कि जरूरत बढ़ने के साथ-साथ अपने वायरिंग की updating और repairing नहीं करवाते हैं जिस वजह से उन्हें बार-बार वायरिंग के जलने और खराब होने की problem को face करना पड़ जाता है।


इसलिए यदि आपका अर्थिंग भी मजबूत नहीं है और यदि ये बार-बार जल जा रहा है तो हमारी personal advice यही है कि आप पुराने अर्थिंग को भूल जाएँ और नए तरीके से high quality का मजबूत तार का इस्तेमाल करके एक मजबूत अर्थ लगायें। लेकिन यदि आप पहली बार अर्थ लगा रहे है तो भी हमारी सलाह यही है कि इसके लिए आप best wire का ही selection करें ताकि सालों बाद wiring पर load बढ़ जाने के बाद भी आपका अर्थिंग सही से काम करे।

मजबूत और टिकाऊ earthing wire का चयन कैसे करें?

i) अर्थिंग में हमेशा copper wire का ही इस्तेमाल करें।

Aluminium wire से निकाला गया अर्थिंग कमजोर होता है और वो ज्यादा समय तक टिकाऊ नहीं रहता है। इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि एल्युमीनियम के तार में बहुत ही जल्द कार्बन लग जाता है। साथ ही ताम्बा के तार की अपेक्षा ये तार जल्दी जल जाता है। यदि आप इस तार से earthing करेंगे तो आपको बार-बार इसके पीछे परेशान होना पड़ सकता है। इसलिए earthing wire के रूप में हमेशा copper wire का ही इस्तेमाल करें।

ii) Earthing के लिए मोटे तार का करें इस्तेमाल

Earthing चूंकि बार-बार नहीं लगाया जाता है इसलिए बिना पैसे की परवाह किये इसके लिए कम-से-कम गेज का तार इस्तेमाल करें। अर्थिंग में यदि आप ज्यादा मोटाई वाला तार इस्तेमाल करेंगे तो ये आपके future के लिए सही रहेगा। बाद में आपकी जरूरत चाहे कितना भी क्यों न बढ़ जाये, आप पहले वाले अर्थिंग पर ही सभी उपकरणों का लोड दे सकेंगे।


2) अर्थिंग के लिए सही जगह का चुनाव करें

ज्यादातर लोग अर्थिंग लगाने के लिए गलत जगह का चुनाव कर लेते हैं जिस वजह से हमेशा उन्हें तकलीफों का सामना करना पड़ता है। इसलिए जब भी अर्थिंग लगायें तो पहले इसके लिए सही जगह का चुनाव कर लें। अर्थिंग के लिए सही जगह का चुनाव करने के लिए आप हमारे निम्न point को पढ़ सकते हैं।

i) भीड़-भाड़ वाले जगह पर earthing न लगायें

Earthing को ठंडी भी कहा जाता है जिस वजह से बहुत लोगों को ये ग़लतफ़हमी हो जाती है कि इसके तार के संपर्क में आने से कोई नुकसान नहीं है। लेकिन ऐसी बात बिल्कुल भी नहीं है, अर्थिंग के तार की चपेट में आने पर भी आपको भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। हाँ, ये बात अलग है कि गर्मी के तार की अपेक्षा ठंडी के तार के संपर्क में आने से कम नुकसान होता है।

लेकिन यदि ज्यादा लापरवाही बरती जाए तो ठंडी का तार भी जानलेवा साबित हो सकता है। इसलिए अर्थिंग के लिए ऐसे जगह का चयन करें जहाँ से होकर न के बराबर लोग गुजरते हों। For example, आप अपने घर के पीछे अर्थिंग का कनेक्शन कर सकते हैं।

ii) अर्थिंग के लिए नमी वाले जगह का चयन करें

ज्यादातर लोग ऐसे होते हैं जो अर्थिंग लगाने के लिए सूखी जगह का चयन कर लेते हैं लेकिन वहां पर नमी बनाये रखने के लिए उस समय वहां पानी डाल देते हैं। उस समय तो उनका अर्थिंग सही से काम कर जाता है लेकिन बाद में उन्हें low voltage की समस्या आने लगती है। इसकी सबसे बड़ी वजह ये होती है कि उन्होंने प्राकृतिक नमी वाले जगह का चयन न करके उस जगह को कृत्रिम रूप से नम किया हुआ होता है।

इसलिए जब भी कभी अर्थिंग लगायें तो natural नमी वाले जगह पर ही लगायें। इसके लिए उस जगह का चुनाव करें जहां पर हमेशा ही पानी का बहाव होता रहता हो। आपके चापाकल या नल के पानी के गुजरने वाले रास्ते के बगल में आप उस जगह पर अर्थिंग लगा सकते हैं जहाँ से होकर कम लोग गुजरते होंगे।

iii) घर के दरवाजे और खिडकियों के पास अर्थिंग न लगायें

आपके घर के दरवाजे से दिनभर लोगों का आवागमन होता ही रहता है, इसलिए घर के दरवाजे के पास अर्थिंग का कनेक्शन बिल्कुल भी न करें। साथ ही इसके लिए आप वैसे जगह का चयन भी न करें जहां पर बड़ी मात्रा में लोहे या अन्य कोई सुचालक धातु लगा हुआ हो।


3) जमीन के नीचे ज्यादा गहराई में अर्थिंग लगायें

बहुत सारे ऐसे जगह होते हैं जहाँ धरती के थोड़े-से गहराई में ही अच्छी earthing मिलने लगती है लेकिन कुछ समय बाद वहां से अच्छी अर्थिंग नहीं मिल पाती है। इसलिए अर्थिंग को हमेशा धरती से कम-से-कम 6 फीट नीचे लगायें ताकि future में भी वो सही से काम करे।

4) Earthing में नमक और कोयले का भी इस्तेमाल करें

नमक और कोयले के इस्तेमाल से लगाया गया अर्थिंग बहुत ही मजबूत और टिकाऊ होता है इसलिए अर्थिंग लगाते वक्त ज्यादा मात्रा में इनका इस्तेमाल करें। साथ ही आप अर्थिंग के गड्ढे को भरने के लिए मिटटी के साथ-साथ गाय का गोबर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

5) अर्थिंग लगाने के लिए earthing rod का भी करें उपयोग

बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो अर्थिंग लगाने के लिए ऊपर बताये गए सभी तरीकों को अपनाते हैं लेकिन अंत में आकर एक गलती कर देते हैं। दरअसल बहुत सारे लोग जमीन में गड्ढा करके उसमें तार को ही लम्बा छीलकर भर देते हैं। लेकिन इस तरह की अर्थिंग कमजोर माना जाता है। इसलिए यदि आप मजबूत अर्थिंग लगाना चाहते हैं तो गड्ढे में सीधे ही तार को छीलकर न डालें।

इस तार को आप लोहे या किसी अन्य सुचालक धातु की एक चादर के साथ मजबूती से लपेटकर तब चादर सहित उसे गड्ढे में डालें। ऐसा करने से आपका earthig और भी ज्यादा मजबूत होगा और अकेले आपके घर में कभी भी low voltage की समस्या नहीं आयेगी। यदि आप चादर का इस्तेमाल न करना चाहें तो उसके जगह पर लोहे या अन्य किसी सुचालक धातु के लम्बी छड़ अर्थात earthing rod का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके बाद गड्ढे को भरने के लिए आप मिटटी के बजाये गोबर या नमक का भी इस्तेमाल जरूर करें।

6) Earthing wire के साथ wiring pipe का भी इस्तेमाल करें

अर्थिंग लगाने के बाद उससे निकले हुए तार को किसी भी तरह के बाहरी नुकसान से बचाने के लिए जरूरत के अनुसार height वाले wiring pipe का इस्तेमाल जरूर करें। इससे आपका earthing wire सही-सलामत रहेगा और साथ ही इसमें सटने के बाद किसी को करंट लगने का भय भी नहीं रहेगा।


आपको हमारी ये जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। यदि आपको हमारा ये पोस्ट पसंद आये तो हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब जरूर कर लें ताकि हमारे लेटेस्ट पोस्ट के नोटिफिकेशन आपको आपके ईमेल आईडी पर मिल जाये।