इलेक्ट्रिक बोर्ड की वायरिंग कैसे करे; हिंदी में जानकारी

आपने अपने घर में बिजली का कनेक्शन जरूर लिया होगा और उसपर बहुत सारे बिजली के उपकरण का इस्तेमाल भी करते होंगे। लेकिन यदि आपने अपने घर में वायरिंग नहीं करवाया है और जैसे-तैसे बंदोबस्त करके बिजली का उपयोग कर रहे हैं तो ये आपके लिए बिलकुल भी सही नहीं होगा।

बिना वायरिंग कराये यदि आप बिजली का उपयोग कर रहे हैं तो कब ये आपके लिए खतरनाक साबित हो जायेगा ये कहना ज्यादा मुश्किल नहीं है। बहरहाल, किसी भी प्रकार के अनहोनी से बचने के लिए आपको अपने घर का हाउस वायरिंग जरूर करवाना चाहिए।

यदि आप सक्षम हैं तो अपने हाउस वायरिंग के लिए किसी अच्छे इलेक्ट्रीशियन से संपर्क कर सकते हैं। लेकिन यदि आप खुद इलेक्ट्रिकल में रुचि रखतें हैं और इससे सम्बंधित थोडा-बहुत काम कर लेते हैं तो हमारे पोस्ट्स को पढ़कर आप खुद से भी अपने घर में हाउस वायरिंग कर सकते हैं।

लेकिन हाउस वायरिंग शुरू करने से पहले आपको इलेक्ट्रिक बोर्ड की वायरिंग करने के बारे में पता होना चाहिए। आपको इलेक्ट्रिक बोर्ड बनाने का तरीका पता होना चाहिए। इलेक्ट्रिक बोर्ड बनाने की विधि पता होना चाहिए, पता होना चाहिए कि इलेक्ट्रिक बोर्ड कैसे बनता है, इलेक्ट्रिक बोर्ड वायरिंग कैसे किया जाता है और पता होना चाहिए कि इलेक्ट्रिक बोर्ड कनेक्शन कैसे करे?

electric board ki wiring kaise kare

यदि आपको पता नहीं है कि इलेक्ट्रिक बोर्ड कैसे बनाते हैं और आप जानना चाहते हैं कि इलेक्ट्रिक बोर्ड वायरिंग कैसे करे तो इलेक्ट्रिक बोर्ड इन हिंदी वाला ये पोस्ट जरूर पढ़ें। इस पोस्ट में आज हम इलेक्ट्रिक बोर्ड बनाने के तरीके के बारे में हिंदी में बताने जा रहे हैं। इस पोस्ट में आज हम आपको इलेक्ट्रिक बोर्ड कैसे बनाये की पूरी जानकारी स्टेप बाय स्टेप हिंदी में देने जा रहे हैं।

इलेक्ट्रिक बोर्ड बनाने का तरीका स्टेप-बाई-स्टेप हिंदी में

इलेक्ट्रिक बोर्ड फिटिंग करने के लिए सबसे पहले अपने जरूरत के अनुसार सारे इलेक्ट्रिक बोर्ड कंपोनेंट्स खरीद लें और फिर इसके बाद सभी वायरिंग टूल्स को भी जमा कर लें। जब सभी हाउस वायरिंग टूल्स और इलेक्ट्रिक बोर्ड मटेरियल आपके पास मौजूद हो तो बोर्ड फिटिंग करने के लिए निम्नलिखित बातों को फॉलो करें।

  1. यदि खरीदे गए बोर्ड मटेरियल पर धुल-कण पड़ा हो तो सबसे पहले सभी मटेरियल और इलेक्ट्रिक बोर्ड की सफाई कर लें।
  2. बोर्ड में आप कौन-कौन-सा और कितना मटेरियल लगायेंगे, इस आधार से सबसे पहले electric board शीट की कटिंग करने के लिए उस शीट पर पेंसिल से निशान बना दें।
  3. इसके बाद अपने औजारों की सहायता से बोर्ड शीट की कटिंग कर दें।
  4. बोर्ड शीट की कटिंग करने के बाद स्क्रू लगाने के लिए भी शीट पर पेंसिल से निशान बना लें।
  5. अब इस निशान पर छेद कर दें।
  6. आप चाहें तो मार्केट से कटिंग किया हुआ बोर्ड भी खरीद सकते हैं, लेकिन उसमें शायद आपके जरूरत के अनुसार कटिंग किया हुआ नहीं मिलेगा।
  7. इलेक्ट्रिक बोर्ड शीट की कटिंग पूरा हो जाने के बाद उसमें सभी बोर्ड मटेरियल को फिट कर दें।
  8. बोर्ड मटेरियल को फिट करने के बाद उसके छेद में ऊपर से अन्दर की ओर स्क्रू लगा दें।
  9. इस स्क्रू को पेचकश या टेस्टर की सहायता से टाइट करके कस दें।
  10. इसी प्रकार से एक-एक करके सारे कंपोनेंट्स को बोर्ड में फिट कर दें।
  11. अब नीचे बताये जा रहे तरीके से सभी कंपोनेंट्स का बोर्ड वायरिंग के माध्यम से आपस में कनेक्शन कर दें।


इलेक्ट्रिक बोर्ड वायरिंग डायग्राम इन हिंदी

ऊपर आपने electric board बनाने की विधि के बारे में अर्थात बोर्ड फिटिंग करने के बारे में जान लिया है और अब बोर्ड के सभी मैटेरियल्स का आपस में कनेक्शन करना ही बाकी रह गया है। इलेक्ट्रिक बोर्ड की वायरिंग को समझने के लिए आप निम्नलिखित electric board wiring diagram फोटो का सहारा ले सकते हैं।

electric baord wiring diagram

ऊपर electric board circuit diagram इमेज में आप एक आदर्श इलेक्ट्रिक बोर्ड की आंतरिक संरचना को देख सकते हैं। साथ ही इस डायग्राम में आप बोर्ड के डिजाईन से लेकर बोर्ड का कनेक्शन तक को आसानी से समझ सकते हैं। लेकिन फिर भी यदि आपको बोर्ड का कनेक्शन समझ में न आये तो चलिए सबसे पहले बोर्ड का डिजाईन को समझ लेते हैं।

  1. हमने इलेक्ट्रिक बोर्ड का एक शीट लिया है और उसके क्षेत्र को भूरे रंग से दर्शा दिया है।
  2. बोर्ड शीट के अन्दर हमने electric board के सभी मटेरियल को कस दिया है। आप अपने बोर्ड में उतने ही मटेरियल को कसें, जितने की आपको जरूरत हो।
  3. बोर्ड के सभी कंपोनेंट्स के क्षेत्र को हमने ग्रे (स्लेटी) रंग से दर्शाया है।
  4. Hot line (गर्मी के तार) और इसके कनेक्शन को हमने लाल रंग से दर्शाया है।
  5. Cold Line (ठंडी के तार) और इसके कनेक्शन को हमने काला रंग से दर्शाया है।
  6. भू-तार और इसके कनेक्शन को हमने हरा रंग से दर्शाया है।
  7. स्विच में सप्लाई हमने गर्मी (लाल रंग के तार) का दिया है लेकिन इसके आउटपुट को हमने नीला रंग दे दिया है ताकि आपको स्विच के इनपुट और आउटपुट को समझने में आसानी हो।
  8. आपकी सुविधा के लिए हमने electric board वायरिंग डायग्राम में सभी मटेरियल का नाम भी लिख दिया है।
  9. इलेक्ट्रिक बोर्ड के किसी भी मटेरियल में (+) और (-) नहीं होता है। अर्थात किसी भी मटेरियल के किसी भी पिन में गर्मी और किसी भी पिन में ठंडी का सप्लाई दे दिया गया है।
  10. अच्छे से इलेक्ट्रिक बोर्ड वायरिंग करने के लिए नीचे दी जा रही जानकारी भी आप पढ़ सकते हैं।


इलेक्ट्रिक बोर्ड की वायरिंग कैसे करे?

ऊपर हमने इलेक्ट्रिक बोर्ड वायरिंग डायग्राम दे दिया है जिसकी सहायता से आप अपने electric board की पूरी वायरिंग कर सकते हैं। लेकिन यदि उस डायग्राम में कुछ समझ न आया हो तो नीचे आप उस वायरिंग डायग्राम को विस्तारपूर्वक समझ सकते हैं। यदि वो डायग्राम आपको समझ आ गया हो तो भी आगे जरूर पढ़ें क्योंकि आगे आप बहुत कुछ नई बात जानेंगे।

1) इलेक्ट्रिक बोर्ड में फ्यूज का कनेक्शन कैसे करे?

फ्यूज के 2 पिन में से एक पिन में इनपुट गर्मी का कनेक्शन होगा और दुसरे पिन से गर्मी का आउटपुट मिलेगा जिसे आगे की वायरिंग में गर्मी ही माना जायेगा। बस एक बात का ध्यान रहे कि सप्लाई वाले गर्मी को सिर्फ फ्यूज में ही जोड़ना है ताकि उस बोर्ड का पूरा लोड फ्यूज पर पड़ सके। साथ ही ध्यान रहे कि बोर्ड तक जो इनपुट गर्मी और ठंडी आता है वो इलेक्ट्रिक मीटर से होकर आता है।

2) इलेक्ट्रिक बोर्ड में गर्मी का कनेक्शन कहाँ किया जायेगा?

इलेक्ट्रिक बोर्ड में गर्मी के तार का कनेक्शन सिर्फ फ्यूज से ही किया जायेगा। लेकिन फ्यूज के आउटपुट को भी गर्मी ही माना जाएगा।

3) फ्यूज के आउटपुट का कनेक्शन कहाँ किया जाता है?

ऊपर हमने बताया था कि बिजली के मेन सप्लाई के गर्मी के तार को सिर्फ फ्यूज के साथ ही जोड़ा जायेगा। तो अब सवाल ये उठता है कि फ्यूज के आउटपुट गर्मी का कनेक्शन कहाँ किया जायेगा? फ्यूज के आउटपुट गर्मी का कनेक्शन इंडिकेटर और सिर्फ स्विच से ही किया जायेगा। यहाँ ध्यान रहे कि स्विच में ठंडी के तार का भी कनेक्शन किया जा सकता है लेकिन गर्मी का कनेक्शन करने के पीछे कुछ बातें हैं जिसके बारे में हम अगले पोस्ट में बात करेंगे।

4) इलेक्ट्रिक बोर्ड में इंडिकेटर का कनेक्शन कैसे करें?

इंडिकेटर के एक पिन में इनपुट गर्मी और दुसरे पिन में इनपुट ठंडी का कनेक्शन किया जाता है। लेकिन एक बात का ध्यान रहे कि यहाँ इनपुट गर्मी का मतलब फ्यूज के आउटपुट गर्मी का है। आगे हम जहाँ भी इनपुट गर्मी का उल्लेख करेंगे उन सभी का मतलब भी यही होगा।

5) इलेक्ट्रिक बोर्ड में ठंडी का कनेक्शन कैसे करें?

ठंडी के कनेक्शन को कॉमन रखा जाता है अर्थात सभी उपकरणों में ठंडी का डायरेक्ट कनेक्शन कर दिया जाता है। साथ ही इंडिकेटर में भी ठंडी का कनेक्शन किया जाता है क्योंकि ये भी एक प्रकार से उपकरण ही होता है। Electric board में ठंडी के तार की वायरिंग बल्ब होल्डर, 2 पिन सॉकेट और 5 पिन सॉकेट में भी किया जाता है लेकिन रेगुलेटर में नहीं किया जाता है।

6) इलेक्ट्रिक बोर्ड में बिजली तार का कनेक्शन कैसे करें?

ऊपर के इलेक्ट्रिक बोर्ड सर्किट डायग्राम और फ्यूज तथा इंडिकेटर के वायरिंग से ही समझा जा सकता है कि इनपुट बिजली के गर्मी का तार फ्यूज में और ठंडी का तार इंडिकेटर में लगेगा। हालांकि आमतौर पर वायरिंग में गर्मी और ठंडी के कनेक्शन उल्टा हो जाने पर हमें कोई फर्क महसूस नहीं होता लेकिन अपने अगले पोस्ट में हम आपको कुछ ऐसी बातें बतायेंगे जिससे आपको गर्मी और ठंडी के कनेक्शन में उलटे-सीधे का फर्क पता चल जाएगा।

7) इलेक्ट्रिक बोर्ड में स्विच का कनेक्शन कैसे किया जाता है?

स्विच में गर्मी का कनेक्शन किया जाता है। सभी स्विच के एक पिन में गर्मी का कनेक्शन होगा और बाकी के एक-एक पिन का कनेक्शन 2 पिन सॉकेट, 5 पिन सॉकेट, बल्ब होल्डर, फेन रेगुलेटर, इत्यादि से किया जायेगा।

8) पंखा रेगुलेटर का कनेक्शन कैसे किया जायेगा?

फेन रेगुलेटर का कनेक्शन करने में कुछ कंडीशन है जिसके बारे में हम पहले ही पोस्ट लिख चुके हैं। आप वो पोस्ट चेक कर सकते हैं या फिर आप ऊपर पेश किये गए electric board wiring diagram में भी देख सकते हैं।


9) इलेक्ट्रिक बोर्ड में बल्ब होल्डर का कनेक्शन कैसे करें?

बल्ब होल्डर के एक पिन का कनेक्शन भी किसी एक स्विच के आउटपुट से किया जाएगा और दुसरे पिन का कनेक्शन ठंडी से किया जायेगा।

10) इलेक्ट्रिक बोर्ड में 2 पिन सॉकेट का कनेक्शन कैसे करे?

2 पिन सॉकेट के एक पिन का कनेक्शन किसी भी एक स्विच के आउटपुट से किया जायेगा और दुसरे पिन का कनेक्शन ठंडी से किया जायेगा।

11) इलेक्ट्रिक बोर्ड में 5 पिन सॉकेट का कनेक्शन कैसे किया जायेगा?

5 पिन सॉकेट में 5 होल होता है जिसमें से 2 होल गर्मी का, 2 होल ठंडी का और बाकी का 1 होल भू-तार का होता है। 2 होल का कनेक्शन ठन्डी के तार से किया जायेगा और बाकी के 2 होल का कनेक्शन किसी भी एक स्विच से कर दिया जायेगा। इसके बाद सबसे ऊपर वाले होल का कनेक्शन भू तार से किया जायेगा। थ्री पिन सॉकेट का कनेक्शन भी इसी प्रकार से किया जायेगा।


12) इलेक्ट्रिक बोर्ड में भू तार का कनेक्शन कैसे होगा?

भू तार का कनेक्शन सिर्फ 5 पिन सॉकेट और 3 पिन सॉकेट के सबसे ऊपरी पिन के साथ ही किया जाता है। इसके अतिरिक्त और कहीं भी भू तार का कनेक्शन नहीं किया जाता है।

13) इलेक्ट्रिक बोर्ड में किसी बाहरी उपकरण का इंटरनल कनेक्शन कैसे होगा?

इलेक्ट्रिक बोर्ड में 2 पिन सॉकेट और 5 पिन सॉकेट का इस्तेमाल बाहरी उपकरण के कनेक्शन के लिए ही किया जाता है। लेकिन यदि आप बाहरी उपकरण का भी बोर्ड में ही फिक्स कनेक्शन करना चाहते हैं तो उसका कनेक्शन भी ठीक उसी प्रकार से करें जिस प्रकार से 5 पिन सॉकेट का कनेक्शन किया गया है।

अर्थात अपने बाहरी उपकरण के एक तार का कनेक्शन ठंडी से करें और दुसरे तार का कनेक्शन स्विच के आउटपुट से करें। यदि आपके उस बाहरी उपकरण में भू तार वाला तार भी हो तो उसे भी भू तार वाले तार के साथ जोड़ दें।

सावधानी:- बिजली बोर्ड की वायरिंग करने के दौरान बोर्ड में सप्लाई दिया हुआ नहीं होना चाहिए। Electric board की पूरी वायरिंग कर लेने के बाद ही उसमें बिजली का तार जोड़ा जायेगा।


आपको ये पोस्ट कैसा लगा कमेन्ट करके हमें जरूर बताएं और यदि ये पोस्ट आपको पसंद आये तो सोशल मीडिया पर इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और इस वेबसाइट को सब्सक्राइब करना भी न भूलें।